जागरण संवाददाता, हरिद्वार: देश की पहली महिला आइपीएस अधिकारी और तिहाड़ जेल की डीजी रही किरण बेदी ने शनिवार को अपनी संस्था इंडिया विजन फाउंडेशन के सदस्यों के साथ जिला कारागार रोशनाबाद का भ्रमण किया। इस दौरान उन्होंने बंदियों और कैदियों को शिक्षा का महत्व बताते हुए उनकी शिक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी ली। कैदियों को तनावमुक्त रखने और जेल का बेहतर माहौल बनाने के लिए किरण बेदी ने वरिष्ठ अधीक्षक मनोज कुमार आर्य की सराहना की। उन्होंने जेल स्टाफ से मुलाकात कर तिहाड़ जेल के अपने अनुभव भी बताए।

तिहाड़ जेल में सुधार और बंदियों के कल्याण की दिशा में काम करने पर किरण बेदी को मैग्सेसे पुरस्कार मिल चुका है। उनकी संस्था इंडिया विजन फाउंडेशन बंदी कल्याण के लिए काम करती है। इसके तहत किरण बेदी अपनी टीम के साथ जिला कारागार रोशनाबाद पहुंची। वरिष्ठ अधीक्षक मनोज आर्य ने उन्हें जेल का भ्रमण कराया। उन्होंने कैदियों से बात की और कहा कि जो लोग पढ़ना चाहते हैं, इंडिया विजन फाउंडेशन उनकी जिम्मेदारी उठाएगा। कैदियों और बंदियों को शिक्षा का महत्व बताते हुए किरण बेदी ने कहा कि शिक्षा प्राप्त कर वो अच्छे नागरिक बन सकते हैं। उनके साथ मौजूद रहे डीपीएस के प्रधानाचार्य अनुपम जग्गा ने भी बंदियों की पढ़ाई के लिए लाइब्रेरी में सहयोग देने का भरोसा दिलाया। वहीं, किरण बेदी सिडकुल के उद्यमियों से भी मुलाकात कर उनसे चर्चा करेंगी कि जेल में मानव संसाधन के रूप में मौजूद कैदियों का उद्योगों में कैसे सदुपयोग किया जा सके। इससे कैदियों के लिए स्वरोजगार के और ज्यादा अवसर पैदा हो सकेंगे। इस दौरान जेलर विकास चंद्रा, चीफ फार्मेसिस्ट आरसी गैरोला आदि मौजूद रहे।